प्रवासियों को लाने के लिए बिहार सरकार ने अब तक 1029 ट्रेन का किया उपयोग

पटना: लॉक डाउन में फंसे दूसरे राज्यों से प्रवासियों को बिहार लाने के लिए 2 ट्रेन से शुरू किया गया कारवां आज 1000 ट्रेन का सफर बिहार में पार कर चुका है। परिवहन सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि लॉक डाउन की अवधि में अब तक बिहार सरकार द्वारा 1029 स्पेशल ट्रेन का उपयोग करते हुए लगभग कुल 15,36000 प्रवासी मजदूरों, छात्र-छात्राओं एवं अन्य लोगों को बिहार लाया गया है।

प्रवासियों को बिहार लाने के लिए शुरुआती दौर में राज्य सरकार द्वारा 1-2 स्पेशल ट्रेनों का परिचालन शुरू किया गया था। आज इसकी संख्या बढ़कर 1 हजार से अधिक हो गई है। इस चुनौतीपूर्ण कार्य को सफलतापूर्वक करने के लिए राज्य सरकार एवं प्रशासन दिन रात लगा हुआ है।

इस माह तक लगभग 395 और स्पेशल ट्रेन आना प्रस्तावित है। प्रवासी श्रमिकों की सुविधा को देखते हुए जिलों के लगभग सभी मत्वपूर्ण स्टेशनों पर ट्रेनों का ठहराव किया जा रहा है। साथ ही राज्य सरकार द्वारा अंतरजिला 28 ट्रेनों का भी परिचालन किया जा रहा है।

प्रवासीयों को ट्रेन से उतरने के बाद अपने गंतव्य तक जाने में किसी तरह की परेशानियों का सामना नहीं करना पड़े इसके लिए रेलवे स्टेशनों के समीप ही जिलावार बसों की व्यवस्था की गई है। हर दिन लगभग 4500 बसों के माध्यम से रेलवे स्टेशन से जिला मुख्यालय/प्रखंड मुख्यालय आदि गंतव्य स्थानों तक प्रवासी मजदूरों व अन्य लोगों को पहुंचाया जा रहा है। वहीं दूसरे राज्यों से पैदल या अन्य वाहन द्वारा आए श्रमिकों के लिए बिहार के विभिन्न बॉर्डर पर 800 बसों की व्यवस्था की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat